नाबालिग को बहला फुसलाकर ले जाने और दुष्कर्म करने वाले आरोपी को 10 वर्ष का सश्रम कारावास

होशंगाबाद । माननीय न्यायालय विशेष न्यायाधीश पाॅक्सो एक्ट/ओएडब्ल्यु (श्री सुरेश कुमार चौबे), जिला होशंगाबाद के न्यायालय द्वारा आरोपी दीपक अहिरवार पिता रविदास अहिरवार, उम्र 28 वर्ष, निवासी मालाखेड़ी, जिला होशंगाबाद को भारतीय दण्ड संहिता की धारा 363 में 5 वर्ष का सश्रम कारावास व 1000 रूपये का अर्थदण्ड, धारा 366 में 5 वर्ष का सश्रम कारावास व 1000 रूपये अर्थदण्ड तथा धारा-4 (पॉक्सो), लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012, में 10 वर्ष का सश्रम कारावास तथा 1000 रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया। आरोपी द्वारा जुर्माना अदा न करने पर व्यतिक्रम में प्रत्येक धारा में अतिरिक्त रूप से क्रमशः 01-01 माह का समश्र कारावास भुगताया जावेगा।

रेलवे ने निकाली इन पदों पर भर्ती जाने कैसे करे आवेदन 

घटना का विवरणः-

प्रकरण के पैरवीकर्ता जिला लोक अभियोजन अधिकारी/विशेष लोक अभियोजक श्री के.पी. अहिरवार ने बताया कि दिनाँक 26.01.2017 को अभियोक्त्रि के पिता ने उनकी नाबालिग 15 वर्षीय लड़की की गुम इंसान की रिपोर्ट थाना देहात, जिला होशंगाबाद में दर्ज कराई। रिपोर्ट में नाबालिग लड़की के पिता ने बताया कि वह दिनाँक 26.01.2017 को दोपहर करीब 12:00 बजे पानी भरने घर से बाहर हेडपंप पर गया था और उसकी पत्नी व एक लड़की घर पर नहीं थे, दूसरी लड़की अभियोक्त्रि घर पर अकेली थी। जब पानी लेकर घर वापस आया तो उसकी लड़की घर पर नहीं थी। उसकी पत्नी व लड़की घर वापस आए तो उनसे अभियोक्त्रि के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि वह घर पर ही थी। उसकी तलाश उन्होंने मोहल्ले, पड़ोस, रिश्तेदारों में की लेकिन कोई पता नहीं चला, वह नहीं मिली, तत्पश्चात् लड़की के पिता ने थाने में जाकर उसके गुम हो जाने की रिपोर्ट दर्ज करवाई। थाना देहात पुलिस द्वारा गुम इंसान रिपोर्ट के आधार पर अज्ञात आरोपी के विरूद्ध प्रकरण की कायमी की। नाबालिग अभियोक्त्री के न्यायालयीन कथनो के आधार पर, उसकी इच्छा के विरूद्ध बहला-फूसलाकर ले जाने और उसका व्यपहरण कर उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया गया। संपूर्ण विवेचना उपरान्त न्यायालय में अभियोग पत्र प्रस्तुत किया गया।

दिन दहाड़े 5 वर्षीय मासूम का किया बलात्कार 

प्रकरण में शासन की ओर से जिला अभियोजन अधिकारी/विशेष लोक अभियोजक, होशंगाबाद श्री के.पी. अहिरवार द्वारा सशक्त पैरवी कर न्यायालय के समक्ष प्रकरण को उक्ति-युक्त संदेह से परे साबित किया गया। उल्लेखनीय है कि आरोपी दीपक अहिरवार पिता रविदास अहिरवार को दुष्कर्म के आरोप में 10 साल के सश्रम कारावास से दण्डित किया गया।

पैसों का लालच देकर की दुष्कर्म करने की कोशिश

Share on: